Tuesday, April 25, 2017

Why Indian Army is the right weapon to deal with Maoist rather than CRPF

Using CRPF to deal with Maoist is wrong strategy and is meant to backfire, Indian Army is the right weapon to deal with Maoist because other than COBRA commandos CRPF is neither fully prepared nor equipped & doesn’t have the autonomy which is required to deal with these Maoists


CRPF is Central Reserve Police Force, they are deployed anywhere and everywhere within the country be it search & rescue operations, conducting elections, maintaining law & order situation in cities and villages in cases of riots or some other mishap, organizing an event and its security, but jungle warfare with Maoist in difficult terrains is something completely different,  other than COBRA commandos of CRPF its men are not properly trained for jungle & guerrilla warfare, and CRPF doesn’t have COBRA commandos in such a large number who can take on widespread Maoist in various states of the country.


CRPF lacks highly advanced and sophisticated weapons, equipment and gears which Indian Army and other commando-SF carries,


Biggest drawback with CRPF dealing with Maoist is that CRPF is accountable & answerable to state govt and has to work in sync with local police, CRPF men could be tried in court and they could even lose their jobs, and human rights lobbies have shown us how they destroy lives of these poor men in uniform just because they performed their duty, whereas Army enjoys immunity & autonomy given to them by law of the land, state and local police can't interfere in their job, and they are not answerable to them, which is the biggest advantage and edge which Indian Army has over CRPF in dealing with tough situation.

Indian army is well equipped with expertise, weapons, equipment and gears, has well trained units in jungle & mountain warfare who are expert in guerrilla warfare as well, Indian Army has its own Air wing, army can even take help from special forces like GHATAK (shock troops) which it commands and even Special Frontier Force which isn’t even answerable to parliament but only to Indian Union’s Cabinet Secretariat and is controlled by RAW (Research & Analysis Wing)

with such lethal and potent options available what is the point in risking lives of our CRPF men when they are not yet ready to deal with the challenge.

Sunday, April 23, 2017

तमिलनाडु के तथाकथित प्रदर्शनकारियों का छिपा हुआ सत्य

आज तमिल नाडु के तथाकथित किसानों के जंतर मंतर वाले प्रदर्शन की बात करते है, जिसमे वो नरमुंड लेकर कभी अपने को मोदी का मुखौटा लगाये व्यक्ति द्वारा कोड़े लगवाकर,कभी मूत्र पीने का दावा कर प्रदर्शन कर रहे है



  • उनकी पहली मांग है की उनके कर्जे माफ़ किये जायें।


पर कर्जे माफ़ करना राज्य सरकार के हाथ में होता है, केन्द्र के नहीं, जैसे यूपी में योगी ने किसानों के छोटे कर्जे माफ़ किये है, उसी प्रकार तमिलनाडु सरकार ही वहां के किसानों के कर्ज माफ कर सकती है,
अब जब विषय राज्य सरकार का है, तो धरना प्रदर्शन की नौटंकी दिल्ली की केंद्र सरकार के विरुद्ध क्यों? और दोष मोदी को क्यों ?


  • दूसरी मांग है कि केंद्र की और से 40,000 करोड़ का पैकेज दिया जाए


ध्यान देने की बात ये है कि जब पहली मांग के अनुसार सारे कर्जे माफ़ हो जाते हैं, तो ये इतना भारी भरकम ₹ 40,000 करोड़ का पैकेज क्यों चाहिए ? किस लिए चाहिए ?
किस आधार पे चाहिए ?
और वो भी तब जब मोदी सरकार पहले ही 4000 करोड़ का पैकेज दे चुकी है।


  • तीसरी मांग है चावल का नयूनतम समर्थन मूल्य (MSP- minimum support price) बढ़ाया जाए।



अब आपको जानकारी उपलब्ध करवा दूं कि 2013-2014 में कांग्रेस के शासन में चावल का MSP ₹1310 प्रति कविंटल था जिसे मोदी सरकार ने बढाकर ₹1470 प्रति कविंटल कर दिया यानि सीधे 12.21% की बढ़ोतरी, ये महत्वपूर्ण कदम इसिलीये हैं क्योंकि देश की महँगाई दर इसकी एक चौथाई से भी कम है, और मोदी सरकार ने MSP केवल चावल पर नही अपितु कई और फसलों पर बढ़ाया है, किंतु इन “किसानों” को वो पता नहीं क्यो नही दिख रहा ?



अब बात करते हैं कुछ तस्वीरों की जो इन प्रदर्शनकारियों की सोशल मिडिया में आ रही हैं, जिसमे दिल्ली के एक बेहद महंगे दक्षिण भारतीय रेस्त्रां से भोजन, मिनरल वाटर की बोतलें, मिठाई व् कॉफी इनके लिए लायी जा रही है व् ये लोग आराम से वो भोजन ग्रहण कर रहे हैं, विषय ये है कि इन इतने गरीब किसानों के लिए ये इतना विलासिता पूर्ण भोजन कौन खरीद रहा है ?


इन्ही प्रदर्शनकारियों के साथ धरना नौटंकी में पारंगत आम आदमी पार्टी के बड़े नेता देखे जा चुके हैं, और कांग्रेस के शहजादे राहुल गांधी भी उनके बीच पाये गये हैं, 

इन प्रदर्शनकारियों द्वारा दिखाए गए उन फोटो की सच्चाई भी निकल के आई है जिन्हें ये लोग तमिलनाडु में मरणासन्न पड़े किसान को असली नरमुंड के साथ पड़ा बता रहे थे,
जो की वास्तव में केवल एक फोटोशूट था, जो नोयडा के खेतों में प्लास्टिक के नरमुंडों के साथ इंडिया टुडे के फोटोग्राफर द्वारा किया गया था, जिससे की विषय अधिक सनसनीखेज बने, मिडिया अधिक महत्व दे, और लोगों में इनके प्रति सहानुभूति जगे, वहीँ एक व्यक्ति जो इन प्रदर्शनकारियों के बीच किसान बनकर घूम रहा था उसकी पहचान एक वामपंथी छुटभैय्ये नेता के रूप में हुई है ।


असल में 
ये घटनाएँ इस ओर इशारा कर रही हैं कि संभव है कि ये हट्टे कट्टे मोटी तोन्दों वाले लोग किसान हों ही न, बल्कि कोई NGO ब्रिगेड हो जो असहिष्णुता, अवार्डवापसी, चर्च अटैक जैसे एक और षड्यंत्र के अंतर्गत केंद्र की भाजपा सरकार व् नरेंद्र मोदी की छवि खराब करने का प्रयास कर रही हो।









Wednesday, April 19, 2017

Brakha's woman & victim card to grab symapthy and attention


So Barkha dutt tries to play victim & woman card together to portray herself as a poor bullied soul in her recent article, where she writes how she is abused and called names and she calls it trolling, but the fact is whoever is on social media and puts up counter narrative goes through same experience, and on the contrary people from her profession including her are infamous for abusing and bullying people be it Rajdeep, swati chaturvedi, Sunetra chowdhri, Sagarika Ghose, Shoma chaudhry, Abhay dubey or Barkha’s new business partner Noman,  

I’ve seen even Barkha dutt being abusive on couple of occasions, so how can now Barkha claim to be a victim when she too indulged in very same activity?
I don’t support abusing anybody on twitter and never indulge into it, but even I’ve been a target of such goons on facebook and twitter but I didn’t cry victim, I just ignored it, but if someone is so disturbed and rattled he/she must use block button, file an FIR or simply delete his/her account, rather than ranting & writing huge articles in newspaper and claim that there is an attempt to silence her, Irony is that Barkha is part of various lit fests, debates, and write regularly for newspapers and one of the most active person on twitter, yet she says she is being silenced because she is a woman, this victim woman card doesn't work here but reveals the hypocrisy of Barkha.

As far as abuses are concerned,I
believe those who hurl abuses online ain’t trolls they are just goons who hide under a fake name, but trolls are something very different they never use abuses they rather use sarcasm, wit, logic, news links and snapshots of previous posts to counter someon, and most of them are so good at researching facts,data & figures and they put it so aptly that these so called journalists find themselves in an uncomfortable and vulnerable position and perhaps these journalists are scared of them and hence they try and label abusive goons on social media as “trolls”, actual trolls unmask these elite journalist on social media almost every day, the journalists who claim to have monopoly over truth are shown the mirror by these trolls and these trolls reveal true face and hypocrisy of Indian media and journalists, writers,artists,politicians to the world which these elites obviously don’t like,

In r
ecent past television & print media were only medium available to the people for news, and for far too long these journalists have fed their false propaganda to the people of this country and actually managed to brainwash them, but ever since the rise of Social media every person with a smart phone and internet connection is able to find the facts & figures and other side of the story, by doing a little research on the internet, and once he gets taste of truth and finds the contradiction in real story and story peddled by these journalists, people use social media platforms like twitter, facebook and blogs to expose the lies and propaganda of these media person which let the comman man understand that these guys have tried to fool him with false story, lies and propaganda and he stops watching or reading these journalists which makes them less relevant in today’s world,  

these journalists have used so many lies and false stories to grab limelight and support their narrative that they have lost their credibility to such an extent that now people first look at the name of journalist before reading the story and tries to verify it online themselves if it’s true or just another propaganda,


be it fake story of forced implementation of Yoga in IIT, discrimination in BHU, BHU VC in BJP’s road show, church attacks of Delhi, Gau rakshak auto driver, these fake stories have killed the trust people once had on mainstream media

whereas these very same journalists ignored Exodus of kairana, incident of shamli, riots of Bengal ban on saraswati & Durga puja and Hanuman prabhaat feri in Bengal, Assam riots, Dhule riots, kosi kalan riots, these journalists had gone on to such a low level that now the religion of the person is directly proportional to the coverage he gets by  Indian mainstream media, religion decides whether it suits them to cover the story or not, and if yes then to which extent, for example murder of Doctor Narang in NCR by muslim mob was given negligible coverage and called road rage, on the other hand Akhlaq's murder who had stolen and killed the calf and police found its meat in his freezer was treated as most important issue of the nation, was covered for months ignoring all other important issues of the nation, motive was to show majority community and government in bad light, this is when people started acknowledging how biased these journalists and this media is,

Stand taken by most media houses & journalists and their coverage on issues like JNU & Rohit vemula made people realize that these guys are doing something else in the name of journalism, and whatever it is, it’s neither true nor in the interest of the nation.

now let's talk about Barkha dutt’s journalistic credibility


  • In her early days of journalism she openly justified massacre and rapes of Kashmiri Hindus and their exodus from the Kashmir valley.


  • During Kargil war she compromised security of Army by her theatrics of using Satellite phone and camera flash to sensationalize war which resulted in Pakistani intruders pinpointing location of a group of Indian soldiers and killing them all in bombardment.


  • We all know about Radia Tapes where Barkha was acting as a middleman and was securing cabinet seats for politicians of her choice to derive maximum benefits later.


  • During 26/11 terror attack she on live TV gave away whereabouts of victims trapped inside Trident hotel by interviewing relatives and friends of the victims outside the hotel and asking them “when was the last time you spoke with victim ?", and "what was the exact location of victim in hotel while he spoke to you?”  this happened on live TV and in real time information was passed on to the terrorists inside hotel watching TV and their handlers sitting across the border giving them instructions on the phone, which resulted in killing of many innocents.
    A blogger named chaitanya Kunte highlighted the incident in his blog post but Barkha threatened him of legal action and left no stone unturned to destroy his professional career, poor man had to delete his blog.
  • During Pathankot terror attack barkha was quick to give details on live television about the location & direction of fuel reserves and armory of air force, and the number of troops and vehicles entering into the airbase and the number of choppers flying over the airbase, here you need to keep in mind that her channel then was the only Indian channel which was not banned in pakistan and it's telecast was available to the handlers of terrorists sitting in Pakistan most probably connected to terrorists through mobile phones.
  • Few days before URI attack Barkha visited river border of India and Pakistan with camera and she pointed towards the shallow side of river and said it’s very easy to infiltrate into India with this route, and terrorists who attacked Uri base came from very same shallow side of the river, strange coincidence ?
  • Barkha's narrative suits the global terrorist who has bounty on his head put by US and his name exist in UN's top ten list of most dreaded terrorist and also India's most wanted terrorist HAFIZ SAEED and he openly praises her in his interviews, she calls terrorist organization hijbul Mujahedeen commander burhan wani a young innocent boy "a son of school master" and Barkha is seen riding on a scooter with next Hijbul Mujahedeen chief in kashmir.
Apart from these, there are several incidents when she reported fake stories like forced implementation of Yoga in IIT and her source being some imaginary guy “Ankit from IIT” though college was closed then, yet she peddled lies of saffronisation of IIT's, she took up story of attacks on church in Delhi which too turned out to be a fake story and these are not the only incidents, for 12 years she went on to target current PM and ran a media trial calling him a mass murderer without a proof and a shred of evidence, who later got acquitted of all charges by the apex court of the nation.

With this track record now she is trying to deflect the heat of her evil deeds by portraying herself as a victim of social media attacks, and most interesting is last part of her article when after whining and crying victim, she says she isn't affected at all by trolling, yet she is writing long articles on those very same people,  which is interesting,
guys who abuses online should face legal action, but truth is barkha wants more of these guys to keep abusing her so she can grab attention and portray herself as "अबला नारी" and grab sympathy.

Saturday, October 8, 2016

NDTV-भारत के विरुद्ध खड़ा एक भारतीय चैनल

ऐसे ही लोग NDTV तो रNDTV, देश विरोधी,बिकाऊ मिडिया,प्रेस्टीट्यूट्स व् भारत विरोधी नहीं कहते, ये देखिये इस गद्दार चैनल का देश विरोधी प्रेश्या रविश कुमार, लोगों से चीनी माल अवश्य खरीदने की अपील कर रहा है, जिससे की हम चीन का समान खरीदें और चीन हमारे ही पैसों को हमारे देश के विरुद्ध सैन्य तैयारियों में खर्च करे या हमारे दुश्मन देश पाकिस्तान को देकर भारतियों पर आतंकवादी हमले करवाये, और भारत के सैनिक और नागरिक मरवाये। यानि ये देश का जयचन्द एक षड्यंत्र के अंतर्गत लोगों को बरगला कर उनका उनका धन देश के शत्रुओं के हाथ में दिलवाकर देश के विरुद्ध खड़े शत्रुओं को मजबूत करवाने का प्रयास कर रहा है।

इसका एक और आर्थिक पहलू ये भी है की लोग देश में निर्मित वस्तुएं न खरीदें और बेचारा देश का कारीगर, व्यापारी और दूकानदार बर्बाद हो, जिससे देश आर्थिक रूप से कमजोर हो जाये और देश के शत्रु सशक्त हो जाएँ,
इस देश का दुर्भाग्य यही है की जिस मिडिया का काम केवल आपको समाचारों से अवगत कराना है उसका एक बड़ा वर्ग व् पत्रकार सुनियोजित षड्यंत्र के अंतर्गत आप पर शत्रुओं का प्रोपगैंडा थोप रहे हैं, और देश के ही लोगों को देश के विरुद्ध खड़ा करवाकर देश के हितों पर आघात कर रहे हैं।

यही वो मिडिया हॉउस है जो सियाचिन पाकिस्तान को दिलवाने के पक्ष में न जाने कितनी चर्चाएं करवा चूका है, और अजय शुक्ला जैसे कांग्रेसी को रक्षा विशेषज्ञ बनाकर प्रस्तुत करता है और उसके द्वारा कभी बांग्लादेश समझौते पर बिना तर्क अथवा तथ्य के उँगलियाँ उठवाता है, तो कभी रफाल सौदे पर, कई बार तो भारतीय सेना की क्षमता पर भी प्रश्न उठवा चूका है,
उदाहरण के लिए उरी आतंकी हमले पर इसी अजय शुक्ला व् NDTV का कहना था की सेना के पास कोई भी सैन्य विकल्प नहीं है और यदि कुछ भी LOC को पार कर किया गया तो परमाणु हमला होगा, अब यथार्थ ये है की सेना ने LOC भी पार कर दी कार्यवाही भी कर ली और उरी का बदला भी ले लिया, और कोई परमाणु युद्ध नहीं हुआ, इसका अर्थ ये है की NDTV जनता को गुमराह कर उन्हें शत्रुओं का प्रोपगैंडा परोसकर उन्हें भ्रमित कर रहा है, और राष्ट्रहित के पथ से हटाकर लोगों को अपने ही देश के हितों के विरूद्ध खड़ा कर रहा है, जो की देशद्रोह व् गद्दारी की श्रेणी में आता है,

लोग अभी तक NDTV द्वारा मोदी और राइट विंग के विरुद्ध चलाये गए जहरीले और झूठे कैम्पेन को भूले नही हैं, न ही बरखा दत्त द्वारा कारगिल में कैमरे की फलैश चमकाकर, सेना को जवानों की स्थिति उजागर कर उनको पाकिस्तानियों द्वारा मरवाने को, न ही 26/11 के समय होटल के अंदर फंसे लोगों के परिजनों से लाइव टीवी पर मोबाईल द्वारा उनकी लोकेशन पूछवाकर उन्हें आतंकियों द्वारा मरवाने के षड्यंत्र को, न ही पठानकोट हमले में लाइव टीवी पर ये प्रसारित करने को की सेना का तेल डिपो व् शस्त्रागार किस ओर है, जिससे की पाकिस्तान में बैठे आतंकियों के आका उन्हें बता सकें की किस प्रकार वे और अधिक घातक, भीषण और सटीक कार्यवाही कर सेना और जवानों को अधिकाधिक हानि पहुंचा सकते हैं,
अब समय आ गया है की सरकार इन विषयों का संज्ञान ले और इस प्रकार के मिडिया हॉउस व् पत्रकारों के रूप में छिपे देश के शत्रुओं पर उचित कर्यवाही करे।

Friday, October 7, 2016

भारत का अराजक विपक्ष

रोहित वेमुला का नाम लेकर दलित राजनीति करने वाले धूर्त व् नीच नेताओं का मुँह जांच रिपोर्ट के आने के बाद पुनः काला हो गया है, जाँच रिपोर्ट में कहा गया है की रोहित वेमुला दलित था ही नहीं, उसकी माँ ने आरक्षण का लाभ उठाने हेतु दलित होने का फर्जी प्रमाणपत्र बनवाया था, वैसे यही बात मिडिया का एक छोटा सा वर्ग कह रहा था, तथा स्मृति ईरानी ने भी संसद में यही बात कही थी, किन्तु पूरे विपक्ष, मुख्यधारा के मिडिया तथा सत्ता विरोधी बुद्धिजीवी वर्ग और NGO ब्रिगेड ने बिना सच नकार दिया और देशव्यापी प्रदर्शन, धरने, मशाल और मोमबत्ती जुलुस निकलने में व्यस्त हो गए, उन्हें लगा की ये एक अवसर है जिससे वो सरकार पर दलित विरोधी होने का ठप्पा लगा सकते हैं, और उन्होंने भरसक प्रयास किया और लड़के की मृत्यु पर सब अपने स्वार्थ, राजनीती, एजेंडा और वोट बैंक की रोटियां सेंकने निकल पड़े, दलित वोट बैंक की आड़ में समान्य वर्ग को जी भर कर कोसा गया गलियां दी गयी, और बिन कारण के भला बुरा कहा गया, किन्तु अब जांच रिपोर्ट के सामने आने के बाद एक भी नेता,पत्रकार-एडिटर,बुद्धिजीवी व् NGO ब्रिगेड का व्यक्ति निकल कर नहीं आया जिसने अपनी गलती स्वीकारी हो और क्षमा मांगी हो। 

यह पहली बार नहीं है की झूठी बातें फैलाकर देश में आग लगाने का प्रयास किया गया है, दादरी के अख़लाक़ वाले मामले में, मुस्लिम औरत को फ़्लैट न मिलने का झूठा विषय, बौलीवुड की एक हस्ती द्वारा गौ रक्षकों पर झूठा केस दर्ज कराने का विषय, चर्चों पर हमलों के झूठे मामलों में भी कुछ ऐसे ही प्रयास हुए थे, जिनके द्वारा देश में हिंसा-दंगे व् आगजनी फैलाने का प्रयास विपक्ष के बड़े नेताओं,पत्रकारों-एडिटरों, इतिहासकारों, लेखकों, बुद्धिजीवियों,NGO ब्रिगेड व् चिन्तकों द्वारा किया गया,

इन अराजक सरकार विरोधियों की समस्या ये है की इनका समर्थन करने वाली व् इन्हें अनैतिक आर्थिक लाभ पहुंचाने वाली राजनितिक पार्टियां केंद्रीय सत्ता से बाहर है, जिससे इनके पास आने वाला धन और मिलने वाली सुविधाएं जैसे सरकारी निवास, मलाईदार पद, विभिन्न प्रकार के भत्ते और चापलूसी के उपहार स्वरूप मिलने वाले पुरस्कार व् पुरस्कार राशि, मुफ्त की विदेश यात्रायें व् उसका पूरा खर्च मिलना रुक गया है,और उसी बौखलाहट व् द्वेष के कारण ये लोग मौजूदा सरकार के शत्रु बन बैठे हैं और हर विषय और मुद्दे को झूठ का आवरण पहनाकर सरकार पर हमला कर उसका जनाधार खंडित करने का प्रयास कर रहे हैं। 

वहीँ दूसरी और सत्तादारी पार्टी को आर्थिक नीतियों द्वारा अर्थव्यवस्था को सुदृण करने, सरकारी सब्सिडी व् फंड की चोरी रोकने  व् उसका लाभ जनता तक पहुंचाने में अपार सफलता मिली है जिसके फलस्वरूप सरकार के प्रति जनता का विश्वास, आकर्षण व् लोकप्रियता बढ़ी है, जिससे सभी विपक्षियों को अपनी दुकानें बन्द होने का भय है,

अतः इसीलिए ये कुछ भी करके सत्तासीन पार्टी की छवि बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं, चाहें देश में दंगे हो, आग लगे, देश की छवि को आघात हो या कानून व्यवस्था का ही संकट खड़ा हो जाए,
इन्हें उससे कोई फर्क नहीं पड़ता, इन्हें केवल जनता के संसाधनों व् धन का दोहन कर सत्ता चाहिए व् उसके द्वारा मिलने वाली सुविधाओं व् आर्थिक लाभ से मतलब है, बाकी न इन्हें देशहित से मतलब है, न जनता के हित से, एक दृष्टि से देखा जाए तो ये जनता के लिए अवसर है ऐसे लोगों के असली व्यक्तित्व, विचारधारा, उद्देश्य व् चेहरे पहचानने का।

Monday, August 29, 2016

भारत की कूटनीति के आगे असहाय हुआ चीन

भारत ने इस समय अपनी कुशल कूटनीति व् विदेशनीति से चीन को असहाय कर रखा है व् क्योंकि वैश्विक समर्थन भी चीन के साथ नहीं हैं चीन गीदड़ भभकियों पे आ गया है, यदि मित्रों की बात करें तो इस समय पाकिस्तान व् उत्तर कोरिया को छोड़ कोई ऐसा देश नहीं है जिसे चीन अपना मित्र कह सके,

एक ओर पाक अधिकृत कश्मीर ,बलूचिस्तान व् गिलिगिट बाल्टिस्तान का नाम लेकर मोदी ने न केवल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वहां हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन को उठाया है बल्कि वहां विरोध प्रदर्शन को हवा दे दी है, जिससे वहां लोग अब प्रतिदिन पाकिस्तान के विरुद्ध जुलुस निकाल रहे हैं व् पाकिस्तान का झंडा फूंक रहे हैं, और उनकी पाकिस्तानी पुलिस व् फौज से झड़पें हो रही हैं, जिससे 46 बिलियन डॉलर का चीन-पाक का CEPC व्यापार मार्ग खतरे में पड़ गया है,

दूसरा दक्षिण चीन सागर पर द्वीप बनाने के विषय पर चीन अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट में केस हार गया है, चीन का विदेश मंत्री भारत का समर्थन मांगने भारत आया था जो उसे मिला नहीं, विश्व के सभी प्रमुख शक्तिशाली राष्ट्र इस समय चीन के विरुद्ध हैं,

तीसरे जिस अरुणाचल पर चीन अपना दावा करता रहा है व् वहां भारत द्वारा रोड बनाने व् विकास कार्य को आजतक रुकवाता रहा है वहाँ भारत ने न केवल सडकें व् अन्य विकास कार्य शुरू किये हैं बल्कि भारतीय वायु सेना ने 7 अडवांसड हवाई पट्टियाँ तैयार कर वहां सुखोई 30 MKI लड़ाकू विमान व् सुपर हरक्युलिस C 130J विमान तैनात कर दिए हैं,
भारतीय थल सेना ने अरुणाचल में 100 टैंकों की तैनाती की है व् 430 करोड़ की लागत से विश्व की तीव्रतम व् अचूक क्रूज़ मिसाइलें ब्रह्मोस भी अरुणाचल की सीमा तैनात कर दी है, और भारत वियेतनाम को वही मिसाइल ब्रह्मोस बेचकर चीन की नेवी के सिर पर दक्षिण चीन सागर में एक तलवार टांगने जा रहा है,

चीन ने पाकिस्तान के ग्वादार बन्दरगाह को व्यापार व् भारतीय नेवी पर निगाह रखने हेतु लिया था, किन्तु भारत ने पकिस्तान व् इरान के खराब हो चुके सम्बंधों का लाभ उठाया व् ग्वादार से 70 किलोमीटर आगे स्थित इरान का चाबहार बन्दरगाह ले लिया, जिससे व् चीन व् पाक द्वारा किसी भी अनुचित हरकत को चाबहार से रोक सके यह चीन व् पाकिस्तान को रणनीतिक थप्पड़ था

यहीं नहीं चीन के लिए भारत सबसे बड़ा बाजार है, अतः चीन के आर्थिक हितों को सीमित करने हेतु चीनी उत्पादों पर 11.5 से 13.5 प्रतिशत कस्टम ड्यूटी लगाई जा रही है

इसीका परिणाम है की जो चीन कभी भारत को कोई महत्व नहीं देता था व् पूरे एशिया में अपने को सुपर पावर बताता था वो आज भारत की इन छोटी छोटी रणनीतियों से खिसिया कर गीदड़ भभकियों पे आ गया है

Sunday, August 7, 2016

भाजपा समर्थकों व् तथाकथित "भक्तों" का विश्लेष्ण



मैंने एक विशेष बात पायी है भाजपा समर्थकों की प्रकृति के विषय में जिन्हें लोग उपहासात्मक रूप से “भक्त” भी कहते हैं, किन्तु ध्यान देने पे आप पाएंगे की ये वे लोग हैं जिनकी विचारधारा अन्य पार्टियों के समर्थकों की तुलना में कहीँ अधिक स्पष्ट है,व् ये भली प्रकार जानते हैं की उन्हें अपने नेतृत्व से क्या अपेक्षा है व् उन्हें भली प्रकार पता है की उन्हें क्या चाहिए, वे अपने विचार बिना संकोच के व्यक्त भी करते हैं, सच कहूँ तो अन्य किसी पार्टी के समर्थकों को मैंने कभी अपनी पार्टी नेतृत्व द्वारा उनकी विचारधारा से विपरीत बयान देने पर कभी आलोचना व् विरोध करते नहीं देखा,

किन्तु भाजपा समर्थकों पर ये लागू नहीं होता, वे यदि हर विपक्षी प्रोपगैंडा का मुखर होकर तर्कों, साक्ष्यों, मिडिया रिपोर्ट्स, न्यूज़ लिंक, राजनितिक बयानों,व्यक्तियों के परस्पर विरोधी वक्तव्यों व् उनके स्क्रीन शॉट्स के संग, घटनाओं का विश्लेष्ण कर उन घटनाओं के समय विभिन्न व्यक्तियों  की प्रितिक्रियाओं का उदाहरण प्रस्तुत कर कटाक्ष के संग उत्तर देते हैं,
वहीँ दूसरी ओर अपनी पार्टी नेतृत्व के बयान, जो उन्हें ठीक नहीं लगते वे उसकी भी मुखर होकर व् खुलकर स्पष्ट शब्दों में आलोचना करते हैं, चाहे वो वक्तव्य स्वयं नरेंद्र मोदी का ही क्यों न हो, उदाहरण के लिए मोदी के गौरक्षक वाले वक्तव्य की खुलकर सोशल मिडिया पर आलोचना हुई, व् मोदी को बाध्य होकर ट्विटर पर स्पष्टीकरण देना पड़ा, दयाशंकर के मामले में भी इन्ही लोगों ने उसपर कार्यवाही की मांग की थी व् बसपा द्वारा उसके परिवार पर की गयी टिप्पड़ीयों की भी अत्यंत कड़े शब्दों में भर्त्सना की थी, यही अंतर है भाजपा व् उसके समर्थकों में व् अन्य पार्टियों में क्योंकि भाजपा अपने समर्थकों के विचारों का संज्ञान भी लेती है व् एक संवाद भी स्थापित करती है,

किन्तु सबसे रोचक बात ये समझ आई की जिन्हें लोग भाजपा समर्थक अथवा “भक्त” कहते हैं ये लोग किसी एक व्यक्ति या पार्टी के भक्त है ही नहीं, ये तो राष्ट्रवादिता के भक्त हैं, और इन लोगों को जो भी व्यक्ति अथवा पक्ष राष्ट्र व् संस्कृति के हित में लगता है ये उसीका समर्थन करते हैं, अर्थार्थ जिन लोगों का “भक्त” कहकर उपहास किया जाता रहा है वे कोई "अंध भक्त" नहीं बल्कि राजनितिक रूप से सशक्त, जागरूक, अपने उद्देश्य के पार्टी अटल व् एक स्पष्ट व् सुदृढ़ विचारधारा के लोग हैं जिनकी निष्ठा किसी व्यक्ति विशेष अथवा पार्टी के प्रति है ही नहीं, बल्कि राष्ट्र व् संस्कृति की ओर है जिसके उत्थान हेतु वे समर्पित हैं, 
ये लोग हर उस पक्ष का साथ देते हैं, और केवल तब तक साथ देते हैं, जब तक वो इनके राष्ट्रहित व् संस्कृति हित के उद्देश्य की प्राप्ति के प्रति सजग व् कार्यरत है, ये विशेषता किसी अन्य पार्टी के समर्थकों में देखने को नहीं मिलती।

आम आदमी समर्थकों की बात करें तो वे अपने दागी नेताओं के बचाव में जी जान से जुटे पड़े थे, कांग्रेसियों की बात करें तो वे कांग्रेस के हर एक घोटाले को झूठ व् अफवाह बताने में लगे हुए थे, मायावती, मुलायम, लालू व् नितीश समर्थकों की बात करें तो उनके समर्थक पार्टी की हर तुष्टिकरण की नीति, हर अपराधिक घटना हर गलत निति को न्यायोचित ठहराने में लगे रहते हैं,

किन्तु इन सबसे जागरूक, सजग व् स्वतंत्र वही “भक्त” हैं जिन्हें आजकल हर बुद्धिजीवी, हर बड़ा मिडिया मुग़ल, हर लिबरल, हर पाकिस्तान समर्थक पानी पी-पी कर कोसता रहता है, उपहास उड़ाता रहता है, और करे भी क्यों न, यही तो वे लोग हैं जो इन लोगों को दर्पण साक्ष्यों,तर्कों व् कटाक्षों के द्वारा दिखाकर इनका पाखंड जनता के समक्ष उजागर कर दिया है

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...